Full Width CSS

रेगुलेटिंग एक्ट 1773 की विशेषताए

रेगुलेटिंग एक्ट 1773

यह एक्ट ईस्ट इंडिया कम्पनी के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण था, इसी एक्ट के तहत ईस्ट इंडिया कम्पनी ने भारत में अपने कार्यो को नियमित रूप से तथा नियंत्रित तरीके से करने की शुरुआत की थी.

1) इसी एक्ट में बंगाल का गवर्नर जनरल पद की शुरुआत हुई थी, और इसी एक्ट से बंगाल के गवर्नर को बंगाल का गवर्नर जनरल कहा जाने लगा. इनकी सहायता के लिए 4 लोगो का सदस्य का नियुक्ति किया गया.

2) इसी एक्ट के तहत सन 1774 में कलकत्ता में प्रथम उच्च न्यायालय की स्थापना हुई थी, जिस न्यायालय में एक मुख्य न्यायाधीश और तीन अन्य न्यायाधीश थे.

3) इस एक्ट के तहत बंगाल का गवर्नर जनरल का पद को सभी गवर्नर से बड़ा कर दिया गया जिससे बंबई और मद्रास के गवर्नर बंगाल के गवर्नर जनरल के अधीन हो गये.

4) इस एक्ट में कम्पनी के द्वारा भारत के किसी भी नागरिक से रिश्वत या कोई भी चीजे लेना वर्जित कर दिया था.

5) इस एक्ट ने भारत के सभी मामलों की जानकारी कम्पनी और ब्रिटिश सरकार को देना आवश्यक कर दिया गया.

6) इस एक्ट में गवर्नर लार्ड वारेन हेस्टिंग्स थे.